दो गज सही ये मेरी मिलकियत तो हैं ।ऐ मौत तूने मुझको ज़मीदार कर दिया ।।अलविदा राहत इंदौरी साहब...


दो गज सही ये मेरी मिलकियत तो हैं ।
ऐ मौत तूने मुझको ज़मीदार कर दिया ।।

अलविदा राहत इंदौरी साहब..🙏🏽

ईश्वर आपणास चिरशांति देवो..💐🙏🏽 

टिप्पणी पोस्ट करा

थोडे नवीन जरा जुने